गुरु नानकदेवजी का प्रकाश पर्व।

गुरु नानकदेवजी का प्रकाश पर्व।

प्रकाश पर्व (Festival Of Lights), सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानकदेवजी का जन्म।

जयपुर (न्यूज़ अपना टोंक) – कार्तिक माह में शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि पर सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानकदेवजी का जन्म हुआ। इसलिए यह प्रकाश पर्व (Festival Of Lights) के रूप में मनाया जाता हैं। व गुरु नानकदेवजी के 554वें प्रकाश पुरब की पूर्व संध्या पर गुरुद्वारों पर आकर्षक लाइटिंग की गई।

Read More – रोशनी से जगमगाएंगे गुरुद्वारे प्रकाश पर्व पर ।

बनीपार्क स्थित सुखमनी सेवा सोसायटी के पाठ गुरप अपनी मेहर कर के सदस्यों ने गुरुजी की बाणी जपुजी साहिब के 10 हजार पाठ किए गये  और विश्व शांति के लिए अरदास की। गुरु नानक देव के बारे में नोबल पुरस्कार से सम्मानित रवींद्रनाथ टैगोर ने कहा था कि वो सिक्ख धर्म के ही नहीं पूरी मानवता के गुरु हैं। उनका जीवन एक स्वर्णपथ पर चलने के लिए प्रेरित करता है, जिसमें वंड छको (जरुरतमंदों की मदद करो), किरत करो (ईमानदारी की कमाई करो) व नाम जपो (परमात्मा का सिमरन करो) गुरुजी के बताए तीन नियम हैं। इनका सहीं मायने में पालन करना चाहिए।

गुरु नानक जयंती का मुख्य आयोजन राजापार्क गुरुद्वारे में होगा। शबद कीर्तन, प्रार्थना, अखंड पाठ होगा। गुरबाणी और गुरमत विचार से साध संगत को निहाल किया जाएगा। लंगर बरताया जाएगा। कंवरनगर, हीदा की मोरी, सेठी कॉलोनी, जवाहरनगर, वैशालीनगर, आदर्शनगर, मालवीयनगर, नेहरू नगर के गुरुद्वारों में बड़े स्तर पर प्रकाश पर्व (Festival Of Lights) मनाया जाएगा।

Spread the love
Avatar

Vimal Jola

विमल जौला निवाई शहर के न्यूज़ रिपोर्टर है। जिनका मुख्य उद्देश्य निवाई तहसील के आस पास की सभी खबरों को जन जन तक पहुंचाना एवं जनता को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करना है। अपने आस पास की ख़बरों, लेखों एवं विज्ञापन के लिए सम्पर्क करें - 8104889200, 9251566935

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *