अनंत चतुर्दशी पर जयकारों से गूंजे जिनालय, श्रीजी का हुआ कलशाभिषेक

अनंत चतुर्दशी पर जयकारों से गूंजे जिनालय, श्रीजी का हुआ कलशाभिषेक

जिन मंदिरों में अनंत चतुर्दशी पर्व बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया

बनेठा:-(न्यूज़ अपना टोंक ) – टोंक जिले के उनियारा उपखंड के बनेठा कस्बे में सकल दिगम्बर जैन समाज की ओर से मनाए जा रहे दशलक्षण पर्व के अंतिम दिन गुरुवार को जिन मंदिरों में अनंत चतुर्दशी पर्व बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। समाज के हरीश जैन पांडया ने बताया कि जैन मंदिरों में श्रद्धालुओं द्वारा वासुपूज्य भगवान की पूजा अर्चना कर श्रीजी का कलषाभिषेक किया गया।
जिन मंदिरों में अनंत चतुर्दशी पर्व बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया
जिन मंदिरों में अनंत चतुर्दशी पर्व बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया
तत्पश्यात मन वचन काय से श्रीजी को लड्डू चढ़ाया गया। इस दौरान जयकारों से जिनालय गूंज उठे। साथ ही पुरुषों ने सफेद एवं महिलाओं ने पीले वस्त्र पहन कर श्रीजी की श्रद्धापूर्वक पुजा अर्चना की। पर्युषण पर्व के अंतिम दिन जैन समाज के लोगों ने व्रत रखा। इसके तहत मंदिरों में प्रात:काल जाप,अभिषेक,वृहद शांतिधारा की गई। वृहत शांतिधारा करने का सौभाग्य प्रेमचंद अजय जैन पांडया,प्रवीण कुमार हरीश जैन पांडया, रमेशचंद विनोद कुमार कंसल,महावीर प्रसाद नेमीचंद मेहंदीवाल, राजेन्द्र प्रसाद नेमीचंद मेहंदीवाल ने की। ब्रह्मचर्य धर्म के बारे में जैन शास्त्र में बताया गया है कि समस्त धर्मों का राजा ब्रह्मचर्य धर्म है। ब्रह्मचर्य यानि ब्रह्म स्वरूप आत्मा में चर्या करके लीन होना। उसका आस्वादन करना ही वास्तविक उत्तम ब्रह्मचर्य धर्म है। दोपहर में  पालकी में बिठाकर भगवान के यंत्र का जुलूस निकाला गया।जुलूस मुख्य मार्गो से होता हुआ कोठी की बावड़ी तक गया।  इस दौरान समाज के प्रवीण पांडया,पदम पांडया,पवन, धर्मचंद मेहंदीवाल, सुनिल पाटनी, रामावतार,हेमचंद सोगानी सहित कई श्रद्धालु उपस्थित थे।
Spread the love
Avatar

Surendra Jain

Chief Editor @ApnaTonk Call for any enquiry or advertisement : 9214928280

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *